हनुमानजी को सिंदूर क्यों लगाया जाता है? जानिए इसके पीछे का रहस्य

Spread the love

आप सभी जानते हैं कि हनुमानजी को संकटमोचन कहा जाता है। संकटमोचन का मतलब होता है, जो सबके दुख दूर कर देता है। पीड़ित व्यक्ति को हनुमानजी का नाम लेने मात्र से ही सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती है और जीवन में सफलता प्राप्त होती है मंगलवार और शनिवार को हनुमानजी की विशेष पूजा की जाती है।

जब भी हम हनुमानजी की पूजा करते हैं तो हमें पूजा में सिंदूर का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए लेकिन क्या आप जानते हैं कि सिंदूर रखने का मुख्य कारण क्या है? तो आइए आज जानते हैं इसके पीछे की रहस्यमयी कहानी के बारे में।

जब हनुमानजी, राम और लक्ष्मण सीता माता को रावण की कैद से छुड़ाकर अयोध्या लौटे तो एक दिन सीतामाता अपने कमरे में बैठी थीं और वह उनकी मांग में सिंदूर लगा रहे थे। तभी अचानक हनुमानजी आए और उन्होंने सीतामाता से पूछा कि आप सिंदूर क्यों पहनते हैं।

हनुमानजी का प्रश्न सुनकर सीतामाता हंस पड़ीं और कहा कि पति की आयु बढ़ती है और पति के जीवन में कोई समस्या नहीं होती है। इसलिए मैंने अपनी मांग में सिंदूर लगाया। फिर हनुमानजी के साथ हुआ कि अगर मैं अपने पूरे शरीर पर सिंदूर लगा दूं तो भगवान राम अमर हो जाएंगे। यह सोचकर हनुमानजी ने अपने पूरे शरीर पर सिंदूर लगा लिया।

हनुमानजी जब पूरे शरीर पर सिंदूर लेकर राज्य में आए तो सभी हंसने लगे। जब भगवान राम ने हनुमानजी से पूछा कि आपने शरीर पर इतना सौंदर्य क्यों लगाया है, तो हनुमानजी ने कहा कि सीतामाता ने मुझसे कहा कि सिंदूर लगाने से पति की आयु लंबी होती है इसलिए मैंने पूरे शरीर पर सिंदूर लगाया ताकि आप अमर हो जाएं।

हनुमानजी की यह बात सुनकर भगवान राम बहुत प्रसन्न हुए और उन्होंने हनुमानजी को स्वीकार कर लिया। हनुमानजी ने कहा कि सिंदूर लगाने वालों का हर मानसिक कार्य पूरा होता है। उस पर सदा कृपा बनी रहे। तभी से हनुमानजी को सिंदूर और घी का दीपक चढ़ाया जाता है। हनुमानजी की विशेष पूजा मंगलवार और शनिवार को की जाती है। और हनुमानजी अपने भक्तों की पीड़ा दूर करते हैं।