Latest

भारत के इस मंदिर में नारी रूप में बिराजमान हैं हनुमानजी, जानिए कारण

Spread the love

यह दुनिया का एकमात्र मंदिर है जहां हनुमानजी नारी रूप में विराजमान हैं। यह प्राचीन मंदिर बिलासपुर के पास स्थित है। यहां हनुमानजी के भेष बदलने की कहानी दस हजार साल पुरानी मानी जाती है। बिलासपुर से 25 किलोमीटर दूर रतनपुर नामक स्थान है।

इस स्थान को महामाया नगरी भी कहा जाता है। यह मंदिर पूरे भारत में सबसे अनोखा है और इसका मुख्य कारण गिरिजाबंध में स्थित महामाया देवी और हनुमानजी का मंदिर है।यहां की खास बात यह है कि हनुमानजी पूरे विश्व में एकमात्र मंदिर है जहां हनुमानजी महिला रूप में बिराजमान हैं यहां हनुमानजी के दरबार से कोई खाली हाथ नहीं लौटता।

पौराणिक कथाओं के अनुसार इस मंदिर का काफी महत्व माना जाता है और ऐसा माना जाता है कि करीब 10,000 साल पहले रतनपुर के राजा पृथ्वी देवजी कुष्ठ रोग से पीड़ित थे। उन्होंने कई इलाज किए लेकिन किसी दवा ने काम नहीं किया।

इस राजा ने स्वप्न में देखा कि संकट मोचन हनुमानजी उनके सामने हैं और उनका एक देवी के रूप में अवतार है। वे बंदर की तरह दिखते थे लेकिन उनकी पूंछ नहीं थी। हनुमानजी ने राजा से कहा, “मैं आपकी भक्ति से बहुत प्रसन्न हूं और मैं आपके कष्ट दूर करूंगा।” यहां एक मंदिर बनाओ और उसमें मेरी प्रतिष्ठा करो। मंदिर के पीछे एक झील है जहाँ आप स्नान कर सकते हैं और औपचारिक रूप से मेरी मूर्ति स्थापित कर सकते हैं। ऐसा करने से आपके शरीर में मौजूद कुष्ठ रोग नष्ट हो जाएगा।