लोकशाही की बात करने वाली गुजरात कांग्रेस खुद तानाशाही से चल रही है

गुजरात कांग्रेस फिलहाल बिना कोंगेस अध्यक्ष के अनाथ है। प्रदेश के पूर्व अध्यक्ष अमित चावड़ा ने पिछले जिला पंचायत और निगम चुनाव में कांग्रेस की शर्मनाक हार के बाद इस्तीफा दे दिया था. जिसे कांग्रेस हाईकमान ने स्वीकार कर लिया। तब से वह केवल कार्यवाहक अध्यक्ष के रूप में पद संभाला रहे है। ऐसे समय में जब कार्यवाहक अध्यक्ष पार्टी के नियमों के अनुसार कोई निर्णय या नियुक्ति नहीं कर सकते हैं, लोकतंत्र का गाना रट रही गुजरात कांग्रेस अब कुछ तानाशाहो से चलने वाली पार्टी बन गई है।

गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावड़ा का इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया है और वह अब पार्टी के पूर्व अध्यक्ष हैं, हालांकि कोई भी कांग्रेस कार्यकर्ता उनके खिलाफ नहीं बोल सकता है चूँकि वह पार्टी से सस्पेंड होने का डर सताए हुए है। भरतसिंह और अमित चावड़ा ने अहमद पटेल के जाने के बाद से किसी को सत्ता संभालने की इजाजत नहीं दी है और आलाकमान को दबाव में रखकर नए अध्यक्ष की नियुक्ति भी होने नही दे रहे. ये दोनों आज भी जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं या कांग्रेस के प्रमुख नेताओं को अपना दबदबा बनाए रखने के लिए अलग-अलग गुट बनाकर एकजुट नहीं होने देते और आलाकमान की नाक दबा कर नइ अध्यक्ष की नियुक्ति नहीं होने दे रहे.

इन दोनों के कार्यकालमें अधिकतम कोंग्रेसी विधायक भाजपा में शामिल हो गए हैं, इन्होने आरोप लगाते हुए कहा था कि भरत सिंह और अमित चावड़ा ने “अच्छे नहीं, बल्कि अपने” लोगों को नियुक्त करके कांग्रेस को खोखला बना दिया है। अब भी, कांग्रेस आलाकमान की आंखों पर पट्टी बांधकर, दोनों अपने पद का दुरुपयोग कर रहे हैं और कांग्रेस में नियुक्तियां करना और अपने स्वयं के लोगों को संगठित करना शुरू कर रहे हैं। ताकि वह पार्टी अध्यक्ष का पद बरकरार रख सकें। कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मानना ​​है कि अमित चावड़ा महज मुखौटा हैं, खिलाड़ी हैं भरत सिंह,

अमित चावड़ा भले ही अध्यक्ष नहीं हैं, लेकिन उन्होंने अपना पार्टी चैंबर खाली नहीं किया है। सूत्रों ने बताया कि संगठन में इन दोनों की जोड़ी अपने ही लोगो की नियुक्ति कर रहे है उस बात को लेकर खुद नेता विपक्ष परेश धनानी ने हाईकमान में शिकायत दर्ज कराई है लेकिन कुछ न हो सका.

जमीनी स्तर के कार्यकर्ता कह रहे हैं कि “कांग्रेस को कुछ भी हो जाए लेकिन भारत सिंह और अमित चावड़ा को अपनी मनमर्जी चलानी है” यह मानकर चल रही यह जोड़ी कांग्रेस को ख़त्म करने में लगी है. अमित चावड़ा ने सौराष्ट्र के जिलों को कवर करने के लिए कुछ जिलों में तालुका स्तर के अध्यक्षों की नियुक्ति करके विवाद पैदा कर दिया है, यह विश्वास रखते हुए कि इससे उन्हें निकट भविष्य में पार्टी अध्यक्ष बनने में मदद मिलेगी।

Today’s Horoscope, 03 March 2024: आज का राशिफल Today’s Horoscope, 02 March 2024: आज का राशिफल Today’s Horoscope, 01 March 2024: आज का राशिफल Today’s Horoscope, 29 February 2024: आज का राशिफल Today’s Horoscope, 28 February 2024: आज का राशिफल
Today’s Horoscope, 03 March 2024: आज का राशिफल Today’s Horoscope, 02 March 2024: आज का राशिफल Today’s Horoscope, 01 March 2024: आज का राशिफल