पिता चलाते हैं छोटीसी बर्तन की दुकान, बेटीने बिना कोचिंग के UPSC में किया टॉप और बनी IAS अफसर

Spread the love

जीवन में सफलता उन्ही को मिलती है जिनके अंदर जोश होता है और जो कुछ करने के लिए उतावले होते हैं। जी हां, अगर इंसान कड़ी मेहनत करे तो उसके लिए कुछ भी असंभव नहीं है। अक्सर देखा गया है कि धनी युवा भी अपने जीवन में सफलता के शिखर तक नहीं पहुंचते, लेकिन सुविधाओं से वंचित युवा कभी-कभी अपने संकल्प से कुछ ऐसा कर जाते हैं जिससे उनका नाम दुनिया में मशहूर हो जाता है। कई लोग हैं जो हर तरह की मुश्किलों को पार कर करियर की ऊंचाइयों को छू रहे हैं।

इसका जीता-जागता उदाहरण आज हम आपको देने जा रहे हैं। हम आपको देश की एक ऐसी लड़की के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं जिसने बिना कोचिंग के अपने दम पर यूपीएससी परीक्षा में टॉप किया है। इतना ही नहीं, लड़की पहले ही गोल्ड मेडल जीत चुकी थी और अपना नाम ऊंचा कर चुकी थी।

UPSC परीक्षा को सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है जिसमें लोग एक बार सफलता की ख्वाहिश रखते हैं। कुछ उम्मीदवार ऐसे भी होते हैं जो अपनी मेहनत से इस मुकाम तक पहुंचते हैं। हम आपको जिस लड़की के बारे में बता रहे हैं उसका नाम नमामि बंसल है, जिन्होंने साल 2017 में उत्तराखंड में यूपीएससी टॉप कर अपने पिता का मान बढ़ाया है।

आपको बता दें कि, नमामि बंसल लाजपत राय मार्ग ऋषिकेश के रहने वाले हैं। उनके पिता राजकुमार बंसल की ऋषिकेश में मिट्टी के बर्तनों की दुकान है। एक दिन जब उन्हें फोन आया कि उनकी बेटी ने आईएएस की परीक्षा पास कर ली है, तो वे बहुत खुश हुए। नमामि बंसल ने एनडीएस गुमानीवाला से प्रारंभिक स्तर से इंटर तक की शिक्षा प्राप्त की। उसने 10वीं में 92.4 फीसदी और इंटर में 94.8 फीसदी अंक हासिल किए। वह स्कूल में बहुत मेधावी थी। इतने अच्छे अंक लाकर उन्होंने ऋषिकेश को प्रसिद्ध किया।

नमामि बंसल ने दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज से अर्थशास्त्र में बीए और ओपन यूनिवर्सिटी हल्द्वानी से अर्थशास्त्र में एमए किया है। बता दें कि ओपन यूनिवर्सिटी के कुख्यात बंसल एमए में टॉपर रह चुके हैं। नमामि को 17 अप्रैल 2017 को राज्यपाल केके पॉल द्वारा स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया। बातचीत के दौरान नमामि बंसल ने कहा कि उन्होंने परीक्षा पास करने के लिए किसी भी तरह की कोचिंग नहीं ली. उन्होंने इंटरनेट की मदद से विषयों की तैयारी की। उसने खुद परीक्षा पास की है।

नमामि बंसल का कहना है कि, अगर परीक्षा की तैयारी के लिए इंटरनेट का सही इस्तेमाल किया जाए तो इससे जानकारी इकट्ठी की जा सकती है। कोचिंग और किताबों से बेहतर हम इंटरनेट पर जानकारी पा सकते हैं। नमामि बंसल ने इंटरनेट को पढ़ाई का सबसे अच्छा माध्यम बताया।

उल्लेखनीय है कि, यात्राधाम शहर स्थित लाला लाजपत राय मार्ग निवासी नमामि बंसल ने संघ सेवा आयोग (यूपीएससी) सिविल परीक्षा 2016 में 17वीं रैंक हासिल की है. नमामि बंसल ने परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को सलाह दी है कि फेल होने पर धैर्य न खोएं। अपना आत्मविश्वास रखें। अगर आप परीक्षा में सफल होना चाहते हैं तो धैर्य, कड़ी मेहनत और आत्मविश्वास जरूरी है।