Latest

युवराज सिंह के पिता ने ऐसे बदली अर्जुन की किस्मत, बोले- 15 दिन के लिए भूल जा…

Spread the love

पूर्व भारतीय महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर एक बार फिर सुर्खियों में हैं और इस बार वह क्यों चर्चा में हैं यह जानकर उनके पिता अर्जुन तेंदुलकर को बहुत गर्व होगा। अर्जुन तेंदुलकर ने अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए अपने रणजी डेब्यू पर शतक बनाया। बुधवार को ग्रुप-सी मैच में राजस्थान के खिलाफ गोवा की ओर से अर्जुन तेंदुलकर ने अपने बल्ले से 120 रनों की शानदार पारी खेली।

इस दौरान उनके बल्ले से 16 चौके और 2 छक्के भी निकले। अर्जुन तेंदुलकर ने इस शतक के साथ अपने पिता की उपलब्धि की बराबरी कर ली है। महान क्रिकेटर और तथाकथित क्रिकेट के भगवान अर्जुन तेंदुलकर ने 11 दिसंबर 1988 को वानखेड़े स्टेडियम में मुंबई के लिए खेलते हुए गुजरात के खिलाफ अपने पहले मैच में नाबाद 100 रन बनाए थे, लेकिन तब सचिन तेंदुलकर केवल 15 साल के थे और आज लगभग 34 साल के हैं। बाद में उनके 23 साल के बेटे अर्जुन तेंदुलकर ने राजस्थान के खिलाफ रन बनाए और शतक लगाकर इस उपलब्धि को दोहराने का काम किया।

मुंबई के लिए खेलने वाले अर्जुन तेंदुलकर को मौका नहीं मिल रहा था और लगातार उनकी अनदेखी की जा रही थी. जिसे देखकर उन्होंने गोवा के लिए खेलने का फैसला किया और आज उनका यह फैसला रंग ला रहा है। अर्जुन तेंदुलकर के धमाकेदार डेब्यू का श्रेय एक और शख्स को दिया जा रहा है और वो हैं युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह, जिन्होंने हाल ही में अर्जुन तेंदुलकर को ट्रेनिंग दी है. सचिन तेंदुलकर के कहने के बाद योगराज सिंह ने चंडीगढ़ में अर्जुन तेंदुलकर को ट्रेनिंग देना शुरू किया।

योगराज सिंह ने अर्जुन तेंदुलकर के साथ 2 हफ्ते बिताए। इस बीच, उन्होंने अर्जुन तेंदुलकर को सुबह 5 बजे जगाने, 2 घंटे दौड़ने और फिर जिम करने में मदद की। इसी बीच योगराज सिंह ने अर्जुन तेंदुलकर को एक गुरुमंत्र दिया जो उनके लिए वरदान साबित हो रहा है। योगराज सिंह ने अर्जुन तेंदुलकर से कहा कि, जब तक तुम मेरे साथ ट्रेनिंग कर रहे हो, तुम्हें यह भूलना होगा कि तुम सचिन तेंदुलकर के बेटे हो।

योगराज सिंह ने कहा, ‘मैंने उनसे कहा कि, उन्हें अगले 15 दिनों के लिए भूलना होगा कि वह सचिन तेंदुलकर के बेटे हैं। मुझे लगा कि बाकी कोचों ने उसे बहुत लाड़-प्यार दिया होगा क्योंकि वह सचिन तेंदुलकर का बेटा है। मैंने उससे कहा कि उसे अपने पिता के साये से बाहर निकलने की जरूरत है। अब लग रहा है कि योगराज सिंह का ये गुरुमंत्र अर्जुन तेंदुलकर के लिए काफी अहम साबित हुआ है. देखना दिलचस्प होगा कि अर्जुन तेंदुलकर इस शानदार शुरुआत को कब तक आगे बढ़ा पाते हैं।

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च