मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए जड़ी बूटी के समान है यह एक चीज -99% मिलेगा रिजल्ट

Spread the love

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसे दिव्य पौधे की जो मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करता है। इस पौधे को कंठ कहा जाता है। गले को हिंदी में गिलोय कहा जाता है, जबकि गुजराती में इसे गला कहा जाता है। गला अमृत के समान होता है, गला कई होता है। रोगों में उपयोगी, मधुमेह पर अद्भुत काम करता है।

आयुर्वेद के सभी ग्रंथों में शुगर का अक्सर उल्लेख मिलता है, गले की लताएं पाई जाती हैं, खासकर नीम के पेड़ पर, गला बहुत आम है। इसलिए इसे नीम का गला कहा जा सकता है – खांसी तीनों को ठीक करती है। वैज्ञानिकों के साथ-साथ विद्वानों ने भी इसका सेवन सिद्ध किया है। गले का मधुमेह ठीक करता है।

मधुमेह में विषाक्त पदार्थों के साथ-साथ कड़वाहट दोनों की आवश्यकता होती है। शोध से पता चला है कि गले में सोडियम में सैलिसिलेट की तुलना में अधिक एनाल्जेसिक गुण होते हैं। इसलिए सुबह और शाम दो से पांच ग्राम रेचक का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है

लेकिन ये सभी प्रयोग किसी विशेषज्ञ डॉक्टर या डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करने पड़ते हैं क्योंकि डायबिटीज किस तरह की अलग है, इसका मूल कारण क्या है और इसे कैसे लिखना है, इसका फैसला विशेषज्ञ डॉक्टर ही कर सकते हैं। इसलिए आप एक बार उनके पास जा कर इसे ले सकते है|