क्या आप जानते हे? 5000 वर्ष के बाद आज भी जीवित है महाभारत युद्ध का यह महान योद्धा, कहा जाता है चिरंजीवी

Spread the love

हिंदू धर्म में सदियों पहले हुए महाभारत के युद्ध के बारे में तो आप जानते ही होंगे। आप उनके योद्धाओं में से एक अश्वत्थामा के बारे में भी जानते होंगे।आप जानते होंगे कि गुरु द्रोण के पुत्र अश्वत्थामा ने अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने के लिए पांडवों के पुत्रों को धोखा दिया और मार डाला।

इतना ही नहीं, उन्होंने अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के अजन्मे बच्चे परीक्षित को भी जन्म से पहले ही मार डाला था, जिसके कारण कृष्ण ने उसे श्राप दिया था कि जब तक यह सृष्टि है, तब तक वह अश्वत्थामा में रहेगा और उसकी मृत्यु नहीं होगी।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस श्राप के कारण अश्वत्थामा का अभी भी ब्रह्मांड पर जीवित होने का माना जाता है। कुछ लोगोंने अश्वत्थामा को जंगल में भटकते हुए देखने का दावा किया है। आइए बात करते हैं कुछ ऐसे ही स्थानों के बारे में जहां अश्वत्थामा के जीवित रहने के प्रमाण मिले हैं।

मध्य प्रदेश के बरहानपुर से 20 किमी दूर सतपुड़ा रेंज में समुद्र तल से 60 फीट की ऊंचाई पर स्थित असीर गढ़ किला। क्षेत्र के लोगों का मानना ​​है कि लोग यहां स्थित एक शिव मंदिर में अश्वत्थामा की पूजा करने के लिए सुबह जल्दी आते थे।

कहा जाता है कि, अश्वत्थामा को देखने वाले की मृत्यु हो जाती है ऐसा ही एक और स्थान है विध्यांचल पर्वत श्रंखला। यह वह स्थान है जहां अश्वत्थामा तपस्या किया करते थे। माना जाता है कि आज भी वह वहीं आ रहा है।इसके अलावा पायलट बाबा ने भी अश्वत्थामा को देखने का दावा किया था।

उनका कहना है कि, जब वे शुलपनेश्वर मंदिर के प्रांगण में विश्राम कर रहे थे तभी उनकी नजर एक दूसरे जानवर पर पड़ी। उसकी ऊंचाई और अच्छे आकार की काठी थी। उनका उज्ज्वल चेहरा देखकर बाबा ने उनके बारे में जानना चाहा।

बाबा का पीछा करने के बाद, वह उसके पास गया और उसकी पहचान के लिए कहा। जिसमें उन्होंने खुद को अश्वत्थामा बताया। इसके अलावा राजा पृथ्वीराज चौहान की भी अश्वत्थामा से मुलाकात हुई होने का माना जाता हे।