Latest

अमेरिका से शादी बनाने के लिए भारत आई दुल्हनिया ने रचाई ऐसी Mahendi की गूगल वाले भी चौंक गए

Spread the love

ब्यूटी इन बाइनरी मेहंदी(Beauty in Binary Mehndi): गुजरात की मशहूर मेहंदी आर्टिस्ट निमिशा पारेख ने बनाया अनोखा Mahendi “ब्यूटी इन बाइनरी” शादी के लिए अमेरिका से सूरत आई अमी पटेल कंप्यूटर क्षेत्र से जुड़ी हैं और उनके होने वाले पति भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं, इसलिए उन्होंने दुल्हन को खूबसूरत मेहंदी कंप्यूटर लैंग्वेज यानी बाइनरी लैंग्वेज में दी, जो दोनों के प्रोफेशन को जोड़ती है और यह मेहँदी के बारे में जान कर Google वाले चौंक गए |

गुजरात की प्रसिद्ध मेहंदी कलाकार निमिशा पारेख, जो सूरत में रहती हैं और 30 से अधिक वर्षों से पेशेवर मेहंदी लगा रही हैं, और अपनी कला को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है। ट्रेंडिंग मेहंदी डिज़ाइन बनाने के बजाय, वे अवधारणा आधारित मेहंदी लगाते हैं। उन्होंने इस क्षेत्र में कई नए अविष्कार किए हैं। निमिशा पारेख ने हाल ही में ‘ब्यूटी इन बाइनरी’ कोन्सेप्त पर एक NRI दुल्हन को एक अनूठी मेहंदी लगा दी।

जानिए बाइनरी महेंदी क्या है
शादी के लिए अमेरिका से सूरत आई अमी पटेल कंप्यूटर क्षेत्र से जुड़ी हैं और उनके होने वाले पति भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं. इसलिए, उन्होंने मेहंदी के बारे में सोचा जो उन दोनों के पेशे को जोड़ता है और अंत में उन्होंने दुल्हन को कंप्यूटर भाषा यानी बाइनरी भाषा में सुंदर मेहंदी दी। इसके लिए उन्होंने पहले स्वयं बाइनरी भाषा के बारे में ज्ञान प्राप्त किया और फिर उस भाषा को कला में परिवर्तित किया।

निमिशा पारेख ने अमी पटेल के जज्बात और उनकी खास तारीखों को बाइनरी लैंग्वेज में तब्दील कर मेहंदी का रूप दे दिया। बाइनरी भाषा ‘0’ और ‘1’ पर चलती है। निमिषा पारेख ने इस कोड के जरिए एक खूबसूरत मैसेज बनाया और उसे खूबसूरती से मेहंदी में पिरोया। इस प्रकार उन्होंने तकनीक की दुनिया में मेहंदी संस्कृति को मेहंदी कला से जोड़ने का प्रयास किया है।

उन्होंने अब तक वारली कला और तमिलनाडु की प्राचीन संस्कृति सिक्कू कोल्लम कला को मेहंदी में पेश किया और इसे दुनिया भर में पेश किया। उन्होंने अमेरिका में मेहंदी कलाकारों के सम्मेलन में नवोदित कलाकारों को मेहंदी में यह नवाचार सिखाया। वे हमेशा कुछ अनोखा करने की कोशिश करती हैं और ट्रेंडी मेहंदी लगाने के बजाय अपनी कला में मिनी ट्रेंड बनाती हैं। दुल्हन के इस सबसे बड़े दिन को यादगार बनाने के लिए उन्होंने कस्टमाइज्ड मेहंदी लगाई। जो इस खास पल को सालों तक अपनी यादों में बनाए रखते हैं।

निमिषा बहन मेहंदी के जरिए न सिर्फ नई रचनाएं रचती हैं बल्कि इस कला के जरिए कई बहनों को रोजगार भी देती हैं। साथ ही इस कला के माध्यम से समाज सेवा भी की जाती है। वे गर्भवती महिला के पेट पर मेहंदी लगाकर विज्ञान और संस्कृति का एक सुंदर संयोजन बनाते हैं और गर्भवती बहनों को पेट पर मेहंदी लगाने के फायदों के बारे में भी शिक्षित करते हैं। वे कैंसर के मरीजों के सिर पर मेहंदी लगाती हैं। वे इस कला को सिर्फ स्टाइल या स्टेटस सिंबल के लिए नहीं बल्कि संस्कृति का प्रतिनिधित्व करने के लिए बढ़ावा देना चाहते हैं।

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च