सूरत में कोरोना महामारी के दौरान 1 साल में इतने लोगों ने की खुदखुशी,जानिए डिटेल्स

Spread the love

कोरोना महामारी के चलते सूरत शहर में आत्महत्या करने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है। सूरत शहर में पिछले एक साल में 2100 से अधिक लोगों ने खुदखुशी  कि है। इसके अलावा जून 2021 में 12 लोगों ने खुदखुशी कि है।सूरत शहर को कई नामों से जाना जाता है जैसे डायमंड सिटी, सिल्क सिटी, स्मार्ट सिटी आदि। पिछले एक साल से सूरत शहर में खुदखुशी के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

देश भर में कोरोना महामारी से कई लोग बेरोजगार हो गए हैं और लोग इसकी वजह से खुदखुशी की राह पर चल रहे हैं। सूरत शहर भी कोरोना काल की शुरुआत के साथ अधिक आत्महत्या की घटनाओं को देख रहा है।सूरत शहर में एक साल में 2151 लोगों ने आत्महत्या की है। आत्महत्या करने का मुख्य कारण बेरोजगारी, बीमारी, शिक्षा, खराब आर्थिक स्थिति, प्रेम प्रसंग आदि हैं। लोग इस बजह से आत्महत्या कर रहे हैं।

साथ ही डॉक्टर ने कहा कि लोग कोरोना महामारी से तंग आ चुके हैं और इसकी बजह से खुदखुशी कर रहे हैं. सूरत शहर में 2 मुख्य व्यवसाय हैं। एक हीरा और दूसरा कपड़ा है, जिसमें लगभग 1.5 मिलियन लोग कार्यरत हैं.उन्होंने आत्महत्या की ओर रुख किया है क्योंकि लॉकडाउन के कारण कुछ लोग आर्थिक रूप से काफी कमजोर हो गए हैं।