Latest

विभिन्न सामाजिक, शिक्षात्मक और धार्मिक नेताओं ने शताब्दी महोत्सव में Pramukh Swami को पुष्पांजलि अर्पित करते हुए कहा की…

Spread the love

Pramukh Swami Maharaj Shatabdi Mahotsav: प्रमुख स्वामी महाराज नगर स्थित नारायण सभागृह में कल ‘समरस्थ दिवस’ के तहत प्रमुख स्वामी महाराज शताब्दी महोत्सव में विभिन्न धार्मिक, सामाजिक, शैक्षणिक नेताओं और जनजीवन के कई प्रतिनिधियों ने भाग लिया था. आपको बता दें कि गीता के इस कथन ‘समत्वं योग उच्यते’ के अवतार प्रमुख स्वामी महाराज के जीवन और कार्य पर विशेष प्रस्तुति में आज दिखाया गया कि प्रमुख स्वामी महाराज ने बिना देखे ही देश-विदेश, गरीब-अमीर, जात-पात, पढ़े-लिखे-अशिक्षित के भेद को किसी ने अपनाया था। प्रमुखस्वामी महाराज की समचित्तता का मुख्य कारण सबमें ईश्वर का दर्शन था। प्रमुखस्वामी महाराज की यही दृष्टि समाज और राष्ट्र के उत्थान का प्रमुख कारक बनी।

खास बात यह रही कि कार्यक्रम की शुरुआत शाम 5.15 बजे भगवान की धुन, प्रार्थना और कीर्तन के साथ की गई। प्रथम भक्ति गीत द्वारा प्रमुखस्वामी महाराज को विशेष श्रद्धांजलि अर्पित की गई, जिन्होंने अपने जीवनकाल में श्रीमद भगवद गीता में उल्लिखित समत्व योग को प्राप्त किया था। प्रमुखस्वामी महाराज का समचित्त जीवन कार्य आदर्शजीवन स्वामी ने ‘प्रमुख चरित्रम्’ व्याख्यानमाला के अंतर्गत ‘सद्भाव के शिखर प्रमुख स्वामी महाराज’ पर विशेष व्याख्यान दिया।

सामवेगभाई लालभाई – कार्यकारी निदेशक, अतुल लिमिटेड:
अतुल लिमिटेड के निदेशक सामवेगभाई ने प्रमुखस्वामी महाराज को श्रद्धांजलि देते हुए कहा, “प्रमुखस्वामी महाराज के जन्म शताब्दी समारोह में उपस्थित होकर मेरा मन नाच रहा है।” इस प्रमुख स्वामी महाराज नगर में भारत के संस्कार, आचार, मूल्य आदि दर्शन होते हैं। प्रमुखस्वामी महाराज का अर्थ है सद्भाव और करुणा की पवित्र गंगा और उस गंगा की लहरों का मैंने 5 बार आशीर्वाद लिया है। उनके द्वारा बोले गए संस्कृति और संस्कृति के बीज आज विशाल वृक्षों में विकसित होकर विश्व भर में सद्भाव फैला रहे हैं। इस समाज में कई परोपकारी हैं, लेकिन प्रमुखस्वामी महाराज हमेशा सबसे परोपकारी संत थे। यह मेरा सौभाग्य है कि परम पूज्य महंत स्वामी महाराज का स्नेह और आशीर्वाद मुझे मिलता रहे।

डॉ. विजय पाटिल, डीवाई पाटिल विश्वविद्यालय:
प्रमुख स्वामी महाराज को नमन करते हुए विजय पाटिल ने कहा कि आज मेरा सौभाग्य है कि आज मुझे इन महानुभावों के बीच बैठने का अवसर मिला है। इस प्रमुखस्वामी महाराज नगर को देखकर मुझे ऐसा लगता है कि बिना दैवीय शक्ति के यह संभव नहीं है और मैं इस नगर का शब्दों में वर्णन नहीं कर सकता क्योंकि यह एक दैवीय चमत्कारी नगरी है। मुझे इस प्रमुखस्वामी महाराज नगर में केवल दिव्यता दिखाई देती है और इस संस्था द्वारा निर्मित मंदिर विश्व के सामने भारत की संस्कृति का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

पूज्य द्वारकेशलालजी महाराज – पुष्ट वैष्णवाचार्य:
द्वारकेशलालजी महाराज ने प्रमुखस्वामी महाराज को नमन करते हुए कहा कि प्रमुखस्वामी महाराज शताब्दी महोत्सव पूरे भारत और दुनिया भर के सभी अनुयायियों के लिए गर्व, खुशी और खुशी का त्योहार है। मैंने कई लोगों के संदेश पढ़े और सुने हैं, लेकिन प्रमुखस्वामी महाराज का जीवन उनका संदेश था और उन्होंने जो जीवन बोला, उसे जिया। प्रमुखस्वामी महाराज का जन्म संसार से भेदभाव की भावना को दूर करने के लिए हुआ था। प्रमुख शब्द में ही पहला अक्षर प्रेम है, दूसरा अक्षर मुक्ति है, तीसरा अक्षर खुमारी है, भव्य और विशाल प्रमुखस्वामी महाराज। मुझे वड़ोदरा के सूरसागर सरोवर में भगवान शिव की मूर्ति पूजा के समय बोले गए शब्द आज भी याद हैं, उन्होंने मुझसे कहा था कि यदि आप जैसे युवा धर्म संस्कार के कार्य से जुड़ते हैं, तो मुझे दृढ़ विश्वास है कि इस देश में फिर से स्वर्ण युग लौट आएगा।

बलवंत सिंह राजपूत – कैबिनेट मंत्री – गुजरात:
बलवंतसिंह राजपूत ने कहा कि आज मेरा सौभाग्य है कि मुझे इस शताब्दी समारोह में उपस्थित होने का अवसर मिला। प्रमुखस्वामी महाराज का अर्थ है शांत, सरल और दिव्य आध्यात्मिक व्यक्तित्व। मानव जीवन के लिए अपना संपूर्ण जीवन न्यौछावर करने वाले प्रमुख स्वामी महाराज का ऋण चुकाने का यह एक उत्कृष्ट अवसर है और मुझे 3 बार उनका दिव्य सानिध्य प्राप्त हुआ है। सिद्धपुर में बिंदु सरोवर के सामने प्रमुखस्वामी महाराज ने किस तरह मुझे ढब्बो देकर आशीर्वाद दिया था, यह मुझे आज भी याद है और उनकी दिव्यता मुझे आज भी महसूस होती है।

मोहन भागवत – सर संघचालक – RSS:
मोहन भागवत ने प्रमुखस्वामी महाराज को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि समरस्थ दिवस पर यहां उपस्थित होना मेरा सौभाग्य है। अद्भुत, दिव्य और अविस्मरणीय तीन शब्द हैं जो इस शहर का वर्णन करते हैं और प्रमुखस्वामी महाराज के कार्यों और संदेशों को आसानी से समझाया गया है। प्रमुखस्वामी महाराज ने एक उच्च जीवन जीकर खुद को दिखाया है और हमें एक समान जीवन जीने के लिए प्रेरित किया है। यदि हम प्रमुखस्वामी महाराज के दिखाए रास्ते पर चलेंगे तो समाज में समरसता का एक दिव्य वातावरण निर्मित होगा क्योंकि उन्होंने जाति या जाति के भेदभाव के बिना हर इंसान को बिना शर्त प्यार दिया है।

प्रमुखस्वामी महाराज की आँखों से उनका व्यक्तित्व देखा जा सकता था और मुझे उनसे 4-5 बार मिलने का सौभाग्य मिला था और आज भी उनकी मूर्ति उनके व्यक्तित्व को दर्शाती है और उनकी दृष्टि एक दृष्टि से ही व्यक्ति के सभी दोषों को दूर कर सकती है। हर आदमी को लगता था कि “प्रमुखस्वामी महाराज मेरे हैं” क्योंकि उन्होंने हर आदमी में भगवान को देखा और उनसे प्यार किया। प्रमुखस्वामी महाराज हर परिस्थिति में दृढ़ और शान्त थे।

मैं उन सभी को बधाई देता हूं जिन्होंने इस प्रमुखस्वामी महाराज शताब्दी महोत्सव का आयोजन किया है क्योंकि प्रमुखस्वामी महाराज की जीवन भावना, जीवन कार्य और संदेश को यहां बहुत ही सरल भाषा में दिखाया गया है।प्रमुखस्वामी महाराज शताब्दी महोत्सव का सही अर्थ यह है कि हमें आदर्श मूल्यों को अपनाना चाहिए। प्रमुखस्वामी महाराज द्वारा सिखाए गए और उनके दिखाए रास्ते पर चलते हैं।आइए उसी से शुरू करते हैं। प्रमुख स्वामी महाराज “निष्काम कर्मयोगी” थे इसलिए उनके सारे काम पूरे हो गए। प्रमुखस्वामी महाराज ने कई युवाओं का कायाकल्प किया है और उन्हें उच्च जीवन जीने और एक आदर्श समाज बनाने के लिए प्रेरित किया है।

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च