आयुर्वेद पर बोले PM मोदी, कहा: दुनिया भावनाओं से नहीं चलती, नतीजे के साथ सबूत होना चाहिए

Spread the love

वाराणसी में राष्ट्रीय शिक्षा शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज की दुनिया परिणामों के साथ अनुपात भी चाहती है. हमें अपनी शिक्षा प्रणाली को तैयार करना होगा ताकि दुनिया हमारी बात और उसके महत्व को स्वीकार करे। पीएम मोदी ने खासतौर पर आयुर्वेद का जिक्र करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा- अगर आयुर्वेद की बात करें तो हम इसमें आगे हैं और हमें परिणाम मिलते हैं, लेकिन अनुपात नहीं मिलता है। हमारे पास एक डेटाबेस होना चाहिए। हम भावनाओं के आधार पर दुनिया को नहीं बदल सकते। ऐसा इसलिए है क्योंकि परिणाम के साथ अनुपात की आवश्यकता होती है।

उस ने कहा, विश्वविद्यालयों को इस पर काम करना चाहिए कि क्या कोई परिणाम है तो अनुपात पाया जाना चाहिए। एक समृद्ध देश भी इस बात से परेशान है कि उसकी आबादी का एक बड़ा हिस्सा बुजुर्ग है। आज हमारा देश युवा है और कभी-कभी ऐसा समय यहां भी आ सकता है। क्या दुनिया में अभी भी कोई है जो इस पर काम कर रहा है। हमें इसके बारे में सोचना चाहिए। यही भविष्य का विचार है और यही भविष्य का विचार है जो अच्छी शिक्षा का आधार है। मोदी ने कहा, “अगर हम इस पैटर्न पर काम करते हैं, तो मुझे विश्वास है कि आने वाले वर्षों में यह एक वैश्विक शिक्षा केंद्र के रूप में उभर सकता है।” उसके लिए हमें अपनी शिक्षा प्रणाली को अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप तैयार करना होगा।

पीएम मोदी ने कहा- शिक्षा तब आएगी जब हमें भविष्य के लिए तैयार रहना होगा
अपने निर्वाचन क्षेत्र में पहुंचकर पीएम मोदी ने कहा, ‘हमने वह किया है जिसकी भारत में कभी कल्पना भी नहीं की गई थी. आज भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। जब देश की गति आ गई है तो हमें भी खुली उड़ान के लिए युवाओं को ऊर्जा से भरना होगा। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति में बच्चों को उनकी प्रतिभा और कौशल के आधार पर तैयार करने पर जोर दिया गया है। देश में तेजी से हो रहे बदलाव की सूरत में शिक्षा प्रणाली और इससे जुड़े लोगों की भूमिका महत्वपूर्ण है। विश्वविद्यालय के छात्रों को सोचना होगा कि क्या हम भविष्य के लिए तैयार हैं। विश्वविद्यालयों को यह जानने की जरूरत है कि दुनिया में क्या हो रहा है।

आपको वर्तमान को संभालना है, लेकिन भविष्य को भी। उन्होंने कहा कि अक्सर जब बच्चे सवाल पूछते हैं तो प्रोफेसर कहते हैं कि सिर खा रहा है, असल में वह सिर नहीं खा रहे हैं लेकिन सर जवाब नहीं दे सकते. आज के बच्चों को भी गूगल के पास ढेर सारी जानकारी होने लगी है। भविष्य में जब बच्चे विश्वविद्यालय जाएंगे तो हमें उनके सवालों के जवाब देने के लिए तैयार रहना होगा। इसलिए यह आवश्यक है कि हम भविष्य को जानें और अपना विकास करें।