Latest

इंग्लैंड के खिलाफ मुल्तान में टेस्ट मैच हारा पाकिस्तान, बाबर ने बताया ये कारण

Spread the love

इंग्लैंड के खिलाफ दूसरा टेस्ट और तीन मैचों की सीरीज हारने के बाद पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम ने स्वीकार किया है कि उनके खिलाड़ियों ने एक इकाई के रूप में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया। मुल्तान टेस्ट का चौथा दिन खत्म हो गया है। पाकिस्तान को 355 रन का टारगेट मिला, जिसके जवाब में टीम को 328 रन पर आउट कर दिया। पाकिस्तान की टीम पहली पारी में सिर्फ 202 रन ही बना सकी और यही पाकिस्तान की हार की सबसे बड़ी वजह है. इसके अलावा कप्तान बाबर आजम ने भी चोटिल तेज गेंदबाजों की कमी को कारण बताया.

बाबर ने दूसरे टेस्ट में 26 रन की हार के बाद कहा, हमारे पास जीतने के कई मौके थे लेकिन एक टीम के तौर पर हम ऐसा नहीं कर सके। हमारे पास चौथे दिन भी मौका था लेकिन हम फिनिश नहीं कर सके। उन्होंने कहा कि हमारे प्रमुख गेंदबाज फिट नहीं थे जिसका खामियाजा हमें भुगतना पड़ा लेकिन यह कोई बहाना नहीं है। मुझे लगता है कि एक टीम के तौर पर हम अच्छा नहीं खेले।

पाकिस्तान के शीर्ष तेज गेंदबाज शाहीन शाह अफरीदी चोट के कारण श्रृंखला से बाहर हो गए हैं, जबकि तेज गेंदबाज हारिस राउफ पहले टेस्ट मैच के दौरान हैमस्ट्रिंग में खिंचाव के कारण बाहर हो गए हैं। नसीम शाह भी कंधे की चोट के कारण बाहर हैं। श्रृंखला का अंतिम मैच अब 17 दिसंबर को कराची नेशनल स्टेडियम में खेला जाना है। पाकिस्तान पहले ही यह टेस्ट सीरीज 0-2 से हार चुका है।

पाकिस्तान ने इंग्लैंड के खिलाफ दूसरा टेस्ट हारने के बाद आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचने की अपनी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। पाकिस्तान की दूसरी सीधी हार से इंग्लैंड की तुलना में भारत को अधिक लाभ हुआ है क्योंकि श्रृंखला की शुरुआत से पहले पाकिस्तान टीम का जीत प्रतिशत आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के 2021-23 सत्र में 51.85 प्रतिशत था, जो भारत के जीत प्रतिशत के करीब था।

अगर पाकिस्तान टीम इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज जीतती है तो भारत के लिए खतरा हो सकता है। लेकिन अब इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में भी हार के बाद पाकिस्तान का जीत प्रतिशत 51.85 प्रतिशत से घटकर 42.42 प्रतिशत रह गया है और लगातार दो मैच हारने के कारण पाकिस्तानी टीम सूची में छठे स्थान पर पहुंच गयी है.

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च