गुजरात में एक बार फिर हजारों कारीगर अपने वतन के लिए रवाना,सूरत के इस उद्योग में दिखी मंदी

Spread the love

कोरोना  संक्रमण के मामलों में गिरावट आने के बाद यूपी बिहार के कारीगर रोजगार की तलाश में सूरत आए, लेकिन कपड़ा उद्योग में भारी मंदी के कारण कारीगर लौट गए.अनुमान है कि 25,000 से अधिक कारीगर अपने वतन लौट गए.कुछ समय पहले ही उत्तर प्रदेश और बिहार से बड़ी संख्या में कारीगर रोजगार की तलाश में सूरत आए थे।

10-12 दिनों तक सूरत में रहने के बाद, कारीगरों को काम नहीं मिलने पर वो लोग अपने गांव लोट गए ये बात संजय पाटिल जो तैयार माल की डिलीवरी में शामिल हे उसने कहा हे.पिछले 10 वर्षों में ऐसा कभी नहीं हुआ। आवश्यकता से अधिक कारीगर अपनी आजीविका के लिए सूरत आए, लेकिन उन्हें बिना रोजगार के लौटना पड़ा। हालांकि, आज भी कारीगर अपने वतन जा रहे हैं।

कपड़ा उद्योग में कारोबार में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। मौजूदा स्थिति पहले से बेहतर है और कारोबार बढ़ रहा  है। कपड़ा बाजारों से पार्सल भेजने में भी थोड़ा इजाफा हुआ है। मंदी आने पर कारोबार में कमी आती है।कभी एक हफ्ते का काम चल जाता है तो अगले हफ्ते मंदी आ जाती है और फिर काम कम हो जाता है।