Latest

इंदौर के सब्जी विक्रेता की 25 वर्षीय बेटी बनी जज, फीस भरने के पैसे भी नहीं थे- जानिए क्या है सफलता का राज

Spread the love

मध्यप्रदेश के इंदौर में सब्जी बेचने वाले एक परिवार की 29 वर्षीय बेटी सिविल जज के लिए चयनित हुई है. संघर्ष की आंच में तपी इस युवती अंकिता नागर का कहना है कि न्यायाधीश भर्ती परीक्षा में तीन बार नाकाम होने के बाद भी उसकी निगाहें लक्ष्य पर टिकी रहीं और आखिरकार  चयन व्यवहार न्यायाधीश सिविल जज पद पर चुन ली गई.

अंकिता नागर ने बताया है की , “चौथे प्रयास में, मैंने व्यवहार न्यायाधीश द्वितीय श्रेणी की भर्ती परीक्षा उत्तीर्ण की है।” मेरी खुशी का वर्णन करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं।एलएलएम में स्नातकोत्तर नागर ने कहा कि वह बचपन से कानून की पढ़ाई करना चाहती थी और उसने एलएलबी की पढ़ाई के दौरान फैसला किया कि वह जज बनना चाहती है।

अंकिता के माता-पिता का कहना है कि हम अपनी बेटी को जीवन में उचित मौका देना चाहते थे। हमने पिछले छह वर्षों में उनकी शिक्षा के लिए बहुत समझौता किया हैं। उन्होंने बिना किसी विशेष के पढ़ाई की और परीक्षा पास की। हमें इस पर गर्व है। किसी को भी अपनी बेटियों की शादी के लिए मजबूर नहीं करना चाहिए, बल्कि उन्हें शिक्षित करना चाहिए।

अंकिता के पिता अशोक नागर शहर के मुसाखेड़ी इलाके में सब्जी बेचते हैं और जज की भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए समय मिलने पर इस काम में उनकी मदद करते हैं. न्यायाधीश की भर्ती परीक्षा में अपनी बेटी की सफलता को देखते हुए सब्जी विक्रेता अशोक नागर ने कहा कि उनकी बेटी एक मिसाल है, मेरी बेटीने जीवन में संघर्ष के बावजूद हार नहीं मानी है.

आत्मविश्वास से परिपूर्ण 29 साल की अंकिता ने कहा, ‘जज की भर्ती परीक्षा में तीन बार फेल होने के बाद भी मैंने हार नहीं मानी और अपने लक्ष्य को हासिल करने की तैयारी में लगी रही. इस संघर्ष के दौरान मेरे लिए रास्ता खुला और मैं उस पर चलती रही. जैसे ही वह न्यायाधीश के रूप में काम करना शुरू करेंगे, उनका ध्यान उनके अदालत में आने वाले सभी लोगों को न्याय दिलाने पर होगा।

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च