सोने से भी ज्यादा कीमती है यह पौधा, कैंसर, आंख-कान और हर चर्म रोग के लिए है रामबाण इलाज 

Spread the love

एक पौधा जो लगातार पच्चीस साल तक जीवित रहता है! यह एक छोटा, चपटा और थोड़ा चिपचिपा पत्तेदार पौधा है जिसे “लाखा लूनी” कहा जाता है, जो अक्सर हर बीमारी के इलाज के रूप में सामने आता है। इस जंगली घास को भारतीय भाषा में लखलूनी, मोती लोनी, लोना, लोना शाक, खुरसा, फूलका, लुनक, ढोल, लोनाक आदि नामों से जाना जाता है।

यह पूरे भारत में पाया जाता है चाहे वह गर्म क्षेत्र हो या हिमालय का ठंडा क्षेत्र। यह घर के फर्श पर, खेत में या मेढक में या खुली जगह में – कहीं भी उगता है। और भारत के कई हिस्सों में होता है। यह गुजरात में हर जगह पाया जाता है। इसकी जड़ें 25 साल तक नष्ट नहीं होती हैं।

इसकी पत्तियों में जबरदस्त स्वास्थ्य लाभ होते हैं। यह विटामिन, आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन और मिनरल से भरपूर होता है। हमारे समग्र स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी है। यह घास सभी हरी सब्जियों से बेहतर होती है। हरी पत्तेदार सब्जियों में सबसे ज्यादा ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है। इसकी पत्तियों में हरी सब्जियों से ज्यादा विटामिन ए होता है।

लूनी जो कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से लड़ने में बहुत मदद करती है। और ओमेगा 3 होने के कारण यह किसी भी हृदय रोग से बचाता है। यह जड़ी बूटी कैंसर, हृदय, रक्त की कमी, हड्डियों की मजबूती और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है।

इसका स्वाद नींबू जैसा होता है। और यह कुछ ही समय में कुरकुरे हो जाते हैं। इसे आप नियमित सलाद में खा सकते हैं। इसका सेवन करने से हमारे शरीर का एनर्जी लेवल बढ़ सकता है। शक्ति अधिक होती है, यह बच्चों के दिमाग के विकास के लिए बहुत जरूरी है, यह बच्चों में एडीएचडी जैसे विकारों को होने से रोकता है।

आयुर्वेद में इसका उपयोग सिर के रोग, नेत्र रोग, कान के रोग, मुंह के रोग, त्वचा रोग, लार में रक्तस्राव, पेट के रोग, मूत्र रोग, रोग और विषाक्त पदार्थों के लिए किया जाता है। इसे सलाद, सब्जी या साबुत रब बनाकर पिया जा सकता है।