इसरो ने सफलतापूर्वक लॉन्च किया PSVL-C52 – EOS-04 के साथ 2 सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजे

Spread the love

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ( ISRO ) ने सोमवार को ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण से पृथ्वी अवलोकन उपग्रह ( EOS – 04 ) सफलतापूर्ण लॉन्च किया। प्रक्षेपण ने दो अन्य राइडशेयर उपग्रहो को कक्षा मे ले जाया गया, क्योकि भारतीय अंतरिक्ष इजेसीने 2022 के लिए गति कार्य मे सेट किया था। 

ग्रह से लगभग 529 किलोमीटर ऊपर सूर्य-तुलयकालीक कक्षा में EOS-04 को तैनात करने के लिए श्रीहरीकोटा में SAR से सुबह 5:59 बजे लॉन्च किया गया था। चार चरणों वाला छात्र उपग्रह INSPIRESAT और एक अंतरिक्ष यान जिसे INSAT-2DT करार दिया गया है, जो भविष्य में एक संयुक्त भारत-भूटान मिशन का अग्रदूत है। प्रक्षेपण के बाद इसरो के प्रमुख एस. सोमनाथ ने कहा, ” PSLV-C52  का मिशन सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है।” मिशन नियंत्रण की खुशी के बीच, प्रक्षेपण निदेशक ने घोषणा की कि सभी तीन उपग्रहो को सफलतापूर्वक तैयनात किया गया है। 

प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने इसरो को बधाई दी और कहा, ” PSLV-C52 मिशन के सफल प्रक्षेपण पर हमारे अंतरिक्ष वैज्ञानिको को बधाई। EOS-04 उपग्रह कृषि, वानिकी और वृक्षारोपण, मिट्टी कि नमी और जल विज्ञान के लिए सभी मौसम को परिस्थितियो में उच्च – रिजोल्यूशन कि छवियाँ प्रदान करेगा। 

पिछले साल लॉन्च किए गए IOS-03 मिशन की विफलता के बाद से PSLV का यह पहला प्रक्षेपण था। अंतरिक्ष एजेंसी ने सिस्टम के साथ तकनीकी विसंगति का हवाला देते हुए मिशन को विफल घोषित कर दिया था। 2022 के पहले लॉन्च ने इस साल 18 अन्य मिशनों को अंजाम देने की इसरो की योजना को गति प्रदान की है, जिसमें चंद्रमा पर चंद्रयान-3 का हाई प्रोफाइल लॉन्च और देश के गगनयान मिशन का बहुप्रतीक्षित लॉन्च शामिल है।

भारत के वर्कहॉर्स PSLV के 54वें मिशन ने लॉन्चर को SSO में ऊपर चढ़ते देखा। अंतरिक्ष एजेंसी की योजना मार्च में PSLV-C53 मिशन का संचालन करने की है, जो OCEANSAT-3 और INS 2B आनंद को कक्षा में ले जाएगी। इसरो प्रमुख एस. सोमनाथ ने पहले कहा था कि, “एजेंसी आने वाले तीन महीनों में पांच बड़े उपग्रह प्रक्षेपण और इस साल कुल 19 मिशनों का संचालन करेगी।”