Latest

क्या सचमें बिक गया WWE? जानिए किसने ख़रीदा और कितने में…

Spread the love

अमेरिका WWE के लोकप्रिय प्रोफेशनल रेसलिंग इवेंट को लेकर बुधवार को एक और अहम खबर सामने आई। कई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि WWE को साऊदी अरब के पब्लिक इन्वेस्टमेंट फंड ने खरीद लिया है। अटकलों को और भी बल मिला जब स्टेफ़नी मैकमोहन और विन्स मैकमोहन ने बोर्ड से इस्तीफा दे दिया।

जानिए किसने ख़रीदा WWE
DAZN समर्थक की एक रिपोर्ट के अनुसार, विंस और स्टेफ़नी के पास WWE के अधिकांश शेयर थे, जो अब बिक चुके हैं। पिता-पुत्री की जोड़ी ने कंपनी को सार्वजनिक शेयर बाजार से हटा दिया और इसे एक निजी व्यवसाय के रूप में ले लिया। उसके बाद अब इसे बेचने का फैसला किया गया है। WWE दुनिया की सबसे बड़ी प्रोफेशनल रेसलिंग कंपनी मानी जाती है,

जो 1999 से दुनिया के अलग-अलग देशों में धूम मचा रही है। कंपनी मैकमोहन परिवार द्वारा बनाई गई थी, लेकिन बाद में इसे सार्वजनिक कर दिया गया। बेचे जाने से पहले अब इसका फिर से निजीकरण कर दिया गया है। विंस मैकमैहन ने पिछले साल जुलाई में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। तब उन पर आरोप लगाया गया था। इस बीच उनकी बेटी स्टेफनी सारी जिम्मेदारी संभाल रही थीं,

लेकिन बुधवार सुबह उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने WWE के सह-सीईओ का पद संभाला। हालांकि, स्टेफनी के पति और स्टार रेसलर ट्रिपल एच अब भी कंपनी से जुड़े रहेंगे। WWE भारत में भी काफी लोकप्रिय है। इसका प्रसारण सैकड़ों देशों में होता है। इसमें भारत के भी कई सितारे हैं, जो पूरी दुनिया में मशहूर हैं।

स्टेफ़नी मैकमोहन ने एक आधिकारिक बयान में लिखा है कि निक के साथ मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में पॉल ‘ट्रिपल एच’ लेवेस्क शामिल हैं। मेरा मानना ​​है कि डब्ल्यूडब्ल्यूई सामग्री प्रदान करने के लिए सही जगह पर है। इसलिए WWE के साऊदी अरब को बेचने की खबर से झटका नहीं लगना चाहिए क्योंकि विंस ने अपनी वापसी पर कंपनी को बेचने के अपने इरादे की घोषणा पहले ही कर दी थी।

विंस ने पिछले साल जुलाई में डब्ल्यूडब्ल्यूई अध्यक्ष के रूप में इस्तीफा दे दिया था, मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, डब्ल्यूडब्ल्यूई ने उनके खिलाफ यौन दुराचार की जांच शुरू की थी। द वॉल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार, विंस ने अपनी कंपनी से जुड़ी चार महिलाओं को $12 मिलियन से अधिक का भुगतान किया।

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च