जगन्नाथजी की जलयात्रा को लेकर महत्वपूर्ण खबर,ट्रस्टियों और पुलिस की बैठक के बाद आई..

Spread the love

विश्व प्रसिद्ध भगवान जगन्नाथ जी की रथयात्रा से पहले एक बड़ी खबर सामने आ रही है. भगवान जगन्नाथजी को रवाना किया जाएगा। मंदिर में नौकायन का आयोजन किया जाएगा। जगन्नाथजी की रथयात्रा से पहले यात्रा की तैयारी की जा रही है। यात्रा की तैयारी रथयात्रा से पहले की जा रही है। पुलिस के साथ मंदिर के ट्रस्टी की बैठक हुई, बैठक में विस्तार से चर्चा की गई कि यात्रा कैसे कराई जाएगी. यात्रा को कोरोना के प्रोटोकॉल के अनुसार संचालित करने की अनुमति मांगी गई थी। इससे पहले गृह मंत्री प्रदीप सिंह ने कहा था कि यात्रा कोरोना प्रोटोकॉल के तहत होगी. जगन्नाथ मंदिर के ट्रस्टी महेंद्र झा पुलिस आयुक्त को रथ यात्रा की अनुमति के लिए आवेदन दिया गया था.

जलयात्रा को लेकर  कोविड गाइडलाइन के लिए मंजूरी मांगी गई है। 144वीं रथयात्रा को लेकर मंदिर की ओर से पूरी तैयारी शुरू कर दी गई है. यह सुनिश्चित करने के लिए एक रिपोर्ट तैयार की गई है. रथयात्रा में मंदिर में भीड़ न हो। 144वीं रथ यात्रा को सुचारू रूप से चलाने के लिए मंदिर ट्रस्ट ने शहर के पुलिस आयुक्त से संपर्क किया है. उन्होंने नौ जून को क्रूज के लिए मजदूरी के लिए आवेदन किया था। रथयात्रा पूर्व यात्रा को लेकर पुलिस हरकत में आ गई है। जगन्नाथ मंदिर में ट्रस्टी और पुलिस के बीच बैठक हुई. पुलिस ने यात्रा की अनुमति दे दी है। यात्रा का निरीक्षण वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने किया। बैठक में कोविड की गाइडलाइन और यात्रा की व्यवस्था पर चर्चा होगी। यात्रा 24 जून से शुरू होगी। यात्रा पुलिस की कड़ी सुरक्षा में शुरू होगी। दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भी व्यवस्था की जाएगी।

हालांकि, गृह मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने प्रोटोकॉल के अनुसार यात्रा आयोजित करने का बयान जारी किया है। यात्रा कोरोना के प्रोटोकॉल के अनुसार आयोजित की जाएगी। 24 जून को मंदिर में एक क्रूज का आयोजन किया जाएगा। रथयात्रा से पहले जथ सूद पूनम का आयोजन किया जाता है। रथ यात्रा की अनुमति पर फैसला बैठक के बाद लिया जाएगा। रथयात्रा से पहले मनाई जाने वाली हर परंपरा को सादगी से मनाया जाएगा। वर्षों पुराने मंदिर की परंपरा बदलेगी लेकिन परंपरा बनी रहेगी। जलयात्रा, नेत्रोत्सव अनुष्ठान, सोनवेश, ध्वज रोहन सहित परंपराओं का निर्वाह किया जाएगा।