Latest

आप मातारानी में मानते है तो एक बार जरुर पढ़े और इस फोटो को शेर करे

Spread the love

प्रत्येक परिवार के कुल के अनुसार कोई न कोई देवी या परिवार देवता होता है जिसकी असीम कृपा से आपके परिवार को सुख, शांति और सुरक्षा का अनुभव होता है जो करोड़ों रुपये कमाने वाले लोगों के घरों में भी नहीं मिलता। कुलदेवी की कृपा से आपको अपने परिवार में आध्यात्मिक चमक और संतोष मिलेगा।

यदि संभव हो तो सभी को साल में एक बार कुलदेवी या कुलदेवता के दर्शन करने चाहिए।ऐसा करने से आपको एहसास होगा कि आप साल भर में जीवन से थक चुके हैं। यह जीवन में आने वाली कठिनाइयों और कठिनाइयों के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में आपकी रक्षा करेगा।
यह आपको गलत रास्ते पर जाने से रोकेगा, आपको गलत निर्णय लेने से रोकेगा और आपको सही निर्णय लेने में मदद करेगा।

इस तरह की अनुभूति और अनुभव बहुत से लोगों को होता है इसमें तार्किक तर्क के लिए कोई जगह नहीं है। बहुत से लोग कहते हैं कि सब कुछ किस्मत से होता है, तो बीमार होने पर अस्पताल क्यों जाएं? अपने जीवन को भाग्य पर निर्भर रहने दें। रोगी के ऑपरेशन के दौरान जो एनेस्थीसिया काम करता है, वह इन भक्तों की पीड़ा के दौरान काम करने वाली कृपा है।

जब तुम कष्टदायी पीड़ा में होते हो तो सर्जन तुम्हारे घर नहीं आता, तुम्हें अस्पताल जाना पड़ता है, उसी प्रकार जीवन में दुख होता है। इसलिए इसे शक्ति पीठ इसलिए माना जाता है क्योंकि हमें वहां से नई शक्ति और नए विचारों का संचार मिलता है। कई लोगों के पास मां में कुलदेवी जाने का समय नहीं होता, कई लोग कहते हैं कि उम्र बीत गई।

अरे दोस्तों, 365 दिनों में से दो दिन भी किसी गलत जगह पर बर्बाद तो नहीं हुए? जब पेंशन पाने या बैंक में टीडीएस फॉर्म भरने की बात आती है तो आपकी ताकत कहां से आती है? कुलदेवी या कुलदेवता के पास जाने के लिए आपको साल में दो दिन बिताने पड़ते हैं क्योंकि जब आप कमजोर या विकलांग होते हैं, तो उनकी कृपा ही आपकी मदद करेगी।

आज का युवा एक ही बात नहीं जानता कुलदेवी कुलदेवता क्या है? वोह हम उससे पूछते हैं कि आपके परिवार की देवी कौन है? आप कहाँ हैं? तो वे जवाब नहीं दे सकते, यह बच्चों की गलती नहीं है। दोष माता-पिता और परिवार का है क्योंकि हमने इस मामले को बच्चों के संज्ञान में कभी नहीं लाया।

हमारी कुलदेवी या कुलदेवता भव भक्ति की भूखी है, उसमें श्रद्धा हो तो हमारे लिए अच्छा है और यदि नहीं रखेंगे तो उन्हें कोई हानि नहीं होगी। द्वारका पूनम भरने के लिए बोडाना हमेशा डाकोर से जाता था लेकिन जब वह बड़ा हुआ तो उसने भगवान से माफी मांगी कि अब वह मुझसे द्वारका नहीं आएगा तो भगवान खुद डाकोर आए।

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च