मधुमेह रोगियों के लिए रामबाण औषधि हैं ये फल – कुछ ही दिनों में गायब हो जाएगी डायबिटीज

Spread the love

डायबिटीज एक गंभीर बीमारी है। डायबिटीज के मरीज की रोगप्रतिकारक शक्ति यानी की इम्युनिटी दिन-ब-दिन कमजोर होती रहती है। डायबिटीज के मरीज का दिल भी कमजोर होता जाता है। दिल तक ब्लड पहुंचाने वाली धमनी ही ब्लॉक हो जाती है। और उसके हाड भी कमजोर हो जाते हैं।स मरीज में उसका पाचन तंत्र भी कमजोर पड़ जाता है। किडनी और फेफड़े को भी नुकसान होता है। बाद में उस मरीज में विटामिन की भी कमी होती है। डायबिटीज होने का मुख्य कारण बहुत से है उसमें एक करो कम पानी पीने से भी होता है।

एक कारण वजन बढ़ने का भी है। व्यक्ति की उम्र के साथ-साथ उनका वजन भी नियंत्रण में होना चाहिए लेकिन कम उम्र में जिस व्यक्ति का वजन बढ़ जाता है उसको डायबिटीज जैसी बीमारी होने का डर रहता है।एक मुख्य कारण वह भी है कि व्यक्ति के आहार का कोई भी टाइम नहीं होता। उसको जब भूख लगती है तब वह खाना खाने के लिए बैठ जाता है। ऐसा करने से वजन भी बढ़ता है। इसलिए डायबिटीज होती है।

आज हम बताएंगे कि डायबिटीज के मरीज को कौन सी सब्जी और फल खाने चाहिए।
जमरुख: इसके अंदर फैटी एसिड की मात्रा कम होती है। इसलिए डायबिटीज के मरीजों के लिए यह खूब आज फायदा कारक साबित हुआ है। पाचन तंत्र को भी कंट्रोल में रखता है।

कीवी: कीवी के अंदर विटामिन ए और विटामिन सी की प्रोटीन होती है। जो हमारे खून को शुद्ध करना और शुगर लेवल को कंट्रोल में रखना दोनों काम करती है। ज्यादातर डॉक्टरों मधुमेह के मरीजों को कीवी खाने का सुझाव देती है

पपीता: अगर आप डायबिटीज को कंट्रोल करना चाहते हैं तो बबीता आपके लिए एक चमत्कार के रूप में साबित होगा। पपीते में एंटीऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा होती है और यह डायबिटीज के मरीजों के लिए खूब आज उपयोगी है।

तरबूज: तरबूज में पोटेशियम होता है और वह डायबिटीज के मरीज के लिए उत्तम माना जाता है। इसलिए इस फल को मधुमेह रोगी खा सकते हैं।

पालक: उसके अंदर मैग्नीशियम और पोटेशियम की भरपूर मात्रा होती है और यह दोनों विटामिन डायबिटीज के मरीज के लिए उत्तम माना जाता है। इसलिए आप लोग पालक का जूस सुबह पी लेते हैं तो अच्छा रहेगा।

भिंडी: भिंडी की सब्जी मधुमेह रोगियों के लिए बहुत ही फायदा कारक होती है। मधुमेह को नियंत्रित करने में भीडी एक अनोखा कार्य करती है।

करेला: डायबिटीज मरीजों के लिए करेला का जूस बहुत फायदाकारक होता है। उसमें अब अपने शरीर में जो शर्करा का प्रमाण बढ गया हो वह कम करने की ताकत है।