Latest

भारत से छिन सकती है वर्ल्ड कप 2023 की मेजबानी, BCCI को होगा करोड़ों का नुकसान!

Spread the love

भारत अगले साल वनडे वर्ल्ड कप की मेजबानी के लिए कमर कस चुका है, लेकिन बड़ी खबर ये है कि वर्ल्ड कप 2023 भारत से छिन सकता है. इस खबर ने भारतीय क्रिकेट जगत में भी हलचल मचा दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक BCCI एक साथ दो मुद्दों पर लड़ रहा है और मुश्किल में है. एक तरफ पाकिस्तान आईसीसी के सामने भारत पर लगातार हमला बोल रहा है. दूसरी ओर टैक्स से जुड़े मुद्दों पर बोर्ड केंद्र सरकार से भी भिड़ रहा है। आईसीसी ने बोर्ड को इस समस्या का समाधान निकालने की चेतावनी भी दी है।

आईसीसी भारत से मेजबानी लेगा
जानकारी के मुताबिक, अगर समय रहते समस्या का समाधान नहीं हुआ तो आईसीसी भारत से मेजबानी ले लेगी। भारत ने आखिरी बार 2016 में टी20 वर्ल्ड कप की मेजबानी की थी। फिर भी बोर्ड कर मुद्दे को हल करने में विफल रहा और ICC ने बाद में BCCI के वार्षिक हिस्से से 190 करोड़ रुपये काट लिए। शुभमन गिल का पहला टेस्ट शतक, 700 दिनों के बाद कमल पुजारा ने टेस्ट में सबसे तेज शतक लगाया, 3 साल बाद पाकिस्तान के बल्लेबाज अजहर अली ने टेस्ट से संन्यास की घोषणा की

900 करोड़ का नुकसान
अब इस बार आईसीसी ने टैक्स बिल को बढ़ाकर 21.84 फीसदी या 900 करोड़ रुपये के करीब कर दिया है। अगर भारतीय क्रिकेट बोर्ड वर्ल्ड कप के लिए टैक्स छूट के लिए सरकार को मनाने में नाकाम रहा तो बोर्ड को 900 करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हो सकता है।

क्या है आईसीसी की पॉलिसी?
टूर्नामेंट के आयोजन को लेकर आईसीसी की नीति की बात करें तो मेजबान देश को अपनी सरकार से कर में छूट लेनी होती है। दूसरी ओर BCCI ने अब तक इस मामले में कोई प्रयास नहीं किया है।

भारत में अब तक का पहला पूर्ण टूर्नामेंट
वनडे विश्व कप अगले साल अक्टूबर में होगा और यह पहला मौका होगा जब पूरा टूर्नामेंट भारत में होगा। 1987 में, भारत और पाकिस्तान दोनों ने एक साथ मेजबानी की। जबकि 1996 में भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका संयुक्त मेजबान थे। 2011 विश्व कप की मेजबानी भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश ने की थी। भारत वनडे वर्ल्ड कप के इतिहास में पहली बार पूरे टूर्नामेंट की मेजबानी करने जा रहा है, लेकिन इससे पहले बोर्ड को टैक्स से जुड़े मसले का समय रहते समाधान निकालना होगा.

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च