इन 3 गांव में युवती ने शादी की तो भरना पड़ेगा 1 लाख रुपए का जुर्माना, क्योंकि इन गांव में….

Spread the love

हमारे देश में आज भी कई जगह ऐसी है जहां यूपी के साथ कुछ खास पड़ता है प्रचलित है। इस प्रथा के जरिए युवतियों का शोषण भी किया जाता है। खास बात यह है कि कई जगहों पर यह गांव पंच है जो इन अनुष्ठानों की शुरुआत करता है और उन्हें पालन करने के लिए कहता है। लेकिन जैसे-जैसे प्रशासन दूर-दूर के गांव में पहुंच रहा है तो यह बुराइयां धीरे-धीरे कम होती जा रही है।

राजस्थान के बूंदी में पंच पटेल का यह दमनकारी शासन लंबे समय से चला आ रहा है। यहां पंच पटेल 3 गांव में रहने वाले कंजर समुदाय की लड़कियों की शादी नहीं होने दी जाती और इन युवतियों के साथ जबरन देह व्यापार कराया जाता है. पंच पटेल शादी पर 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाते हैं। यानी लड़की को शादी करने पर एक लाख रुपये देने होंगे।

पंच पटेल की इसी जिद के चलते यहां की युवतियों को चंद रुपयों में देह व्यापार करना पड़ता है। ऐसी युवतियों को इस वेश्यावृत्ति से बाहर निकालने के लिए जिला कलेक्टर रेणु जयपाल ने ऑपरेशन अस्मिता की शुरुआत की है। इसके तहत कंजर समाज की युवतियां अब अपने प्रेमी से शादी कर रही हैं और जो उन्हें यह काम करने के लिए मजबूर कर रहे थे, उन पर भी मुकदमा चलाया जा रहा है।

पंचायत से इस कलंक को मिटाने के लिए बूंदी जिला कलेक्टर रेणु जयपाल ने ऑपरेशन अस्मिता की शुरुआत की है। इसके तहत अब तक कई युवतियों को जबरन वेश्यावृत्ति में धकेला गया है और उनकी शादी अपने ही प्रेमी से कर दी गई है। ऑपरेशन अस्मिता ने उनका घर बनाना और शादी का बंधन बनाना शुरू कर दिया है। बूंदी, शंकरपुरा, रामनगर और इंदरगढ़ मोहनपुरा के 3 गांवों में कंजर समुदाय के लोग रहते हैं।

अब ऑपरेशन अस्मिता ने इनकी शादी और सेटलमेंट की समस्या को दूर कर दिया है। बूंदी में अब तक 3 से 4 विवाहित कंजर बेटियों की शादी अपने प्रेमी के साथ जिला प्रशासन की मौजूदगी में कर चुकी है और अपना घर भी बसा चुकी है. जिला कलेक्टर ने कहा कि कुरीति को धीरे-धीरे अभियान से हटाकर शादी पर ध्यान दिया जा रहा है।इसके अलावा प्रशासन सामूहिक विवाह की भी तैयारी कर रहा है। एक के बाद एक शादियां होने लगी हैं। लेकिन सामूहिक विवाह एक साथ करने से कई युवतियों को इन लक्षणों से बाहर निकाला जा सकता है। वहीं, पंच पंचायत के खिलाफ भी कार्रवाई शुरू कर दी गई है।