सरकारी अस्पताल की लापरवाही: भर्ती हुई महिला मरीज की आंखों को चूहों ने खा लिया 

Spread the love

सरकारी अस्पतालों में मरीजों के प्रति लापरवाही की घटनाएं समय-समय पर सामने आती रहती हैं। लेकिन आज आपको बताने वाले है वो कुछ अलग ही किस्सा है| जिसमें एक महिला मरीज की आंख को चूहे ने तराशा है। जिसे लेकर अस्पताल में काफी बवाल हो गया है. मौके पर डॉक्टरों की टीम पहुंची और महिला का इलाज किया। अस्पताल प्रबंधन ने भी घटना को लेकर बयान जारी कर कहा है कि जहां खाने का सामान होता है वहां चूहे आ जाते हैं.

यह दिल दहला देने वाली घटना राजस्थान के कोटा की है। जीबीएस सिंड्रोम से पीड़ित 30 वर्षीय महिला रूपमती को 45 दिनों से एमबीएस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। महिला के पति देवेंद्र सिंह ने बताया कि पत्नी को लकवा के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें न्यूरो आईसीयू में भर्ती कराया गया है। गर्दन हिला भी नहीं सकते। वह करीब 42 दिन से वेंटिलेटर पर थीं और दो दिन पहले उन्हें यहां शिफ्ट किया गया था।

आंख पर चोट के निशान भी पाए गए
देवेंद्र ने कहा कि रात में उसकी पत्नी का चेहरा कपड़े से ढका हुआ था। जब वह रोने लगा तो मैंने उसे अपने कपड़े उतारते देखा। तभी उसके चेहरे पर खून दिखाई दिया। देवेंद्र ने कहा कि वह तुरंत स्टाफ और डॉक्टर को सूचित करने गए। उस समय, डॉक्टरों ने कहा कि हो सकता है कि एक कीड़े ने काट लिया हो।

देवेंद्र ने कहा, “मुझे डॉक्टरों पर विश्वास नहीं हो रहा था क्योंकि मेरी पत्नी की आंख पर बड़ा घाव हो गया था। पलक को दो भागों में बांटा गया था। यह कीड़े के काटने के कारण नहीं है। हालांकि रात में डॉक्टरों ने इलाज किया। सुबह डॉक्टर ने फिर आकर मेरी पत्नी की आंख की जांच की और उसकी ड्रेसिंग की। अब डॉक्टरों का कहना है कि घाव चूहे के काटने से हुआ होगा।

अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ समीर टंडन ने कहा कि वे हर महीने अस्पताल में कीटनाशक नियंत्रण करते हैं। अभी भी दौड़ रहा है घटना की गहनता से जांच कराई जाएगी। कीट नियंत्रण के बाद भी ऐसा हुआ है, इसके लिए हम और हमारे कर्मचारी जिम्मेदार हैं।ऐसे तरह तरह के बयान दिए|

उन्होंने कहा कि स्ट्रोक यूनिट में चूहा कहां से आया है, इसकी जांच प्रभारी व ड्यूटी कर्मियों से बात कर की जाएगी. जहां खाना होता है वहां हमें चूहे भी मिल जाते हैं। रोगी परिचारक भी अपने साथ खाने-पीने की चीजें रखते हैं। हमारे पास अस्पताल में चूहे भी हैं।इसलिए लोग आज कहरहे है की सरकारी अस्पताल से ज्यादा अपनी पिवेत अस्पताल में अछी सारवार होती है|