खुफिया बैठक में नरेश पटेल का विरोध करने वाले हार्दिक पटेल को किसने कहा- कोंग्रेस जख मारके CM का चहेरा घोषित करेगी!

Spread the love

खोडलधाम के चेयरमैन नरेश पटेल ने गुजरात की राजनीति में एक बार फिर धूम मचा दी है और इसे राजनीतिक आयाम दे दिया है. गुजराती शायद यह मान रहे हैं कि अब कांग्रेस का समय है। लेकिन यह भी ज्ञात है कि कांग्रेस को उसके नेता राहु और केतु बनकर खा रहे हैं।

कांग्रेस की ओर से आज सुबह से गुजरात प्रभारी बनाए गए रघु शर्मा एक के बाद एक बयान दे रहे हैं और नरेश पटेल ने भी इसका जवाब दिया है। गुजराती सोच रहे हैं कि नरेश पटेल अगर कांग्रेस में शामिल हो गए तो एक चौंकाने वाली बात सामने आई है।

पिछले नवंबर में अहमदाबाद के जोधपुर इलाके में एक कांग्रेस नेता के घर पर बैठक हुई थी। इनमें गुजरात के नरेश पटेल समेत पाटीदार समाज के नेता थे जिनमें भी शामिल थे जो कांग्रेस से जुड़े हुए हैं। इस बैठक में पाटण के विधायक किरीट पटेल को छोड़कर सभी पाटीदार विधायक मौजूद थे। बैठक में हार्दिक पटेल भी मौजूद थे।

बैठक का संचालन नरेश पटेल ने किया और बैठक में तीन मुद्दों पर चर्चा की गई। जिसमें प्रदेश अध्यक्ष को ओबीसी नेता बनाया जाए और विपक्ष के नेता की कमान किसी जनजातीय क्षेत्र के विधायक को सौंपी जाए। उसके साथ गुजरात के राजकारण में बनकर बेठे हुए ओबीसी नेता जिसने गुजरात कोंग्रेस को बान में ला रखा है। एसे नेताओ को साइडलाइन किया जाए और सारी जिम्मेदारी नव नियुक्त नेताओं को पूरी ताकत के साथ सौंप दी जाए। गुजरात में आगामी विधानसभा चुनाव में चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष का पद नरेश पटेल को सौंप दिया जाए और पुराने चेहरों को साइड लाइन किया जाए और नए चाहेरे को जगह दी जाए।

नरेश पटेल ने कांग्रेस हाईकमान की मंजूरी के बिना गुजरात चुनाव की तैयारी करने और इंतजाम कर देने का वादा किया है। बैठक में मौजूद नेता ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री के चेहरे को पाटीदार और सौराष्ट्र घोषित करने की भी मांग की थी।

इसका विरोध करने वाले अकेले हार्दिक पटेल थे और परेश धनानी ने भी अपना आक्रोश व्यक्त किया और कहा, “कांग्रेस में आने के बाद सब कुछ मिलने से पहले कांग्रेस कुछ नहीं देती” और हार्दिक पटेल ने यह भी कहा, “कांग्रेस कभी मुख्यमंत्री चहेरे का खुलासा नहीं करता है” तो आप इस बात को साइड में ही रख दें’। उस वक्त बैठक में मौजूद प्रदेश स्तर के एक नेता ने हार्दिक पटेल को करारा जवाब दिया था कि ” कोंग्रेस जख मारके देगी।”

बैठक के दौरान तय किया गया कि खोडलधाम पटोत्सव के बाद कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा की जाएगी। लेकिन पटोत्सव भी कोरोना के कारण वर्च्युअल कर दिया गया। योजना के अनुसार योजना पूरी नहीं हुई। ऐसी भी अटकलें हैं कि नरेश पटेल उन नेताओं के साथ कांग्रेस में शामिल होंगे, जिन्हें भाजपा से साइडलाइन कर दिया गया है और मंत्री पद से हटा दिया गया है।