Latest

शंख बदल सकता है जिंदगी, यकीन ना हो तो आजमा कर देखिये, OM लिखिये और शेयर कीजिये

Spread the love

शंख की उत्पत्ति कैसे हुई? इस संदर्भ में प्राचीन शास्त्र कहते हैं कि, आत्मा की उत्पत्ति ब्रह्मांड से, आत्मा से प्रकाश, आकाश से प्रकाश, आकाश से वायु, वायु से अग्नि, अग्नि से जल और पृथ्वी से पृथ्वी की उत्पत्ति हुई है। इन सभी तत्वों से जल शंख बनता है। ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार शंख सूर्य और चंद्रमा के समान देवता है। आगे गंगा सरस्वती, पीछे वरुण और केंद्र में स्वयं ब्रह्माजी विराजमान हैं।

भागवत पुराण के अनुसार, संदीपन ऋषि आश्रम में कृष्ण की शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने उनसे गुरु दक्षिणा लेने का अनुरोध किया। तब ऋषि ने कहा, मेरे पुत्र को लाओ जो समुद्र में डूब गया है। श्रीकृष्ण ने समुद्र तट पर जाकर शंखासुर का वध किया, उसका शंख शेष रह गया। ऐसा माना जाता है कि शंख की उत्पत्ति इसी से हुई है। शायद शंख का नाम पांचजन्य था।

वैसे तो शंख कई प्रकार के होते हैं, लेकिन यदि शंख दक्षिण दिशा की ओर हो और नियमित रूप से प्रयोग किया जाए तो घर से नकारात्मक ऊर्जा दूर रहती है।

वाणी में दोष हो तो:
यदि कोई व्यक्ति बोलने में असमर्थ है या उसे किसी प्रकार का वाणी दोष है तो शंख बजाना लाभकारी होता है। शंख कई प्रकार के फेफड़ों के रोग जैसे अस्थमा, संक्रमण, तपेदिक, हृदय रोग, पेट के रोग और अस्थमा का कारण बन सकता है। शंख बजाने से पूरे शरीर में वायु का प्रवाह अच्छा रहता है, जिससे हमारा शरीर स्वस्थ रहता है।

गर्भवती महिला को होता है फायदा:
शालिग्राम को शंख के पानी से स्नान कराएं और फिर उस पानी को गर्भवती महिला को दें ताकि बच्चा स्वस्थ पैदा हो।

अगर महिलाओं को बांझपन की समस्या है:
जिन महिलाओं को नपुंसकता की समस्या होती है, अगर उन्हें नियमित रूप से दो कमजोर शंखों में पानी मिलाकर पिलाया जाए तो उनके बच्चे हो सकते हैं।

नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है:
ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार शंख में जल भरकर पूजा सामग्री को कुछ मिनट बाद उसी जल से धो लें और बचे हुए जल को घर के वातावरण को शुद्ध करने के लिए पूरे घर में छिड़क दें ताकि किसी भी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा न आए। . इमारत में जीवन रक्षा। भगवान शिव का शंख से अभिषेक करने से भोले बाबा बहुत प्रसन्न होते हैं।

पैसा घर आता है:
दक्षिणावर्ती शंख को पूजा कक्ष में रखने और उसकी विधिवत पूजा करने से घर की आर्थिक स्थिति अच्छी बनी रहती है और परिवार में आपसी प्रेम का अच्छा माहौल रहता है। बैक्टीरिया मर जाते हैं। शंख की ध्वनि की खास बात यह है कि इससे निकलने वाली ध्वनि के 200 मीटर के दायरे में वातावरण में रहने वाले जीवाणु किसी अन्य तरीके से नहीं मरते हैं।

शंख पूजन का मंत्र:
इस मंत्र से करनी चाहिए शंख की पूजा –
“तवंपुरा सगारोत्पन्ना विष्णुंविघृतकरे।
देवैश्चापुजित: सर्वथाउपचजन्यामनुस्तुते।।”

58 करोड़ के आलीशान घर में लग्जरी लाइफ जीते हैं शाहिद कपूर और मीरा अडाणी जैसे 16 अरबोपतिओ को रुला चूका है हिंडनबर्ग रिसर्च