Latest

सोने के गहनों को लेकर नियमों में बड़ा बदलाव, आज से केवल इतने ही कैरेट का सोना बिकेगा

Spread the love

आज से बदल जाएगा गोल्ड ज्वैलरी खरीदने का तरीका, क्योंकि आज से गोल्ड हॉलमार्किंग के नियम लागू होंगे। बिना हॉलमार्किंग के सोने के आभूषण बेचने वाले को एक साल तक की जेल हो सकती है। यह सोने के आभूषणों के मूल्य का 5 गुना तक का जुर्माना भी लगा सकता है।

गोल्ड हॉलमार्किंग सोने की शुद्धता का प्रमाण पत्र है, आज से सभी ज्वैलर्स को केवल 14, 18 और 22 कैरेट सोना बेचने की अनुमति होगी।बीआईएस अप्रैल 2000 से गोल्ड हॉलमार्किंग योजना चला रहा है। आज तक करीब 40 फीसदी सोने के गहनों में हॉलमार्किंग होती है। ज्वैलर्स के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया भी ऑनलाइन और ऑटोमेटेड कर दी गई है।वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के मुताबिक भारत में करीब 4 लाख ज्वैलर्स हैं। जिनमें से 35,879 बीआईएस प्रमाणित हैं।

गोल्ड हॉलमार्किंग वाला सोना फिलहाल देश में नहीं बिकता लेकिन उस पर कोई बाध्यता नहीं थोपी गई। कई बड़े जौहरी खुद सोने की हॉलमार्किंग वाली ज्वैलरी बेचते हैं। नियम लागू होने के बाद अब सभी ज्वैलर्स को हॉलमार्क वाले सोने के आभूषण ही बेचने होंगे। सरकार ने गोल्ड हॉलमार्किंग नियम को लागू करने के लिए एक कमेटी भी बनाई थी। प्रमोद तिवारी, महानिदेशक, भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस)। जिसका काम नियमों को लागू करने में आने वाली दिक्कतों को दूर करना है।

गोल्ड हॉलमार्किंग नियम लागू होने के बाद एक अहम सवाल यह भी है कि घर में गिरे पुराने सोने का क्या होगा. यह बिक्री को कैसे प्रभावित करेगा। इसका जवाब है कि सोने की हॉलमार्किंग के फैसले का घर में रखे सोने के गहनों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। आप इसे आसानी से रख सकते हैं। पुराने आभूषणों की बिक्री पर कोई असर नहीं पड़ेगा। लोग इसे वहां के ज्वैलर्स को बेच सकते हैं। लेकिन अब जौहरी बिना हॉलमार्क के सोने के गहने नहीं बेच सकेंगे।